Essays In Hindi For Children

On By In 1

Labour Day Essay Subscribe Now

Holi Festival Essay In Hindi Short Paragraph On My Favorite

Save Girl Child Beti Bachao

Manners Essay Essay On Etiquette And Manners In Hindi Essay About

Essay For Kids

Essay On Newspaper In Hindi

Diwali Essay Short Essay About Diwali Festival In English Latest

Child Labour Essay In Hindi

How To Prevent Air Pollution Essay Insanely Easy Ways To Prevent

Essay On Global Warming In Hindi Language Pdf

Child Labour Essay In Hindi

The Importance Of English Essay Why English Is Important For Thais

What Is Terrorism Essay In Hindi

Lincoln Essay Abraham Lincoln Essays Gxart Abraham Lincoln

Hindi Essay Websites For Kids

Short Essay For Kids Essay On Kids Faw Ip Short Essay For Kids

Short Essayexcessum

Independence Day Essay Independence Day Essay In

Essay For Television Essay Responding To Quottelevision

Essay On Childrens Day

skip to main | skip to sidebar

Short Essay on 'Children's Day: 14 November' in India in Hindi | 'Bal Diwas' par Nibandh (165 Words)

Short Essay on 'Children's Day: 14 November' in India in Hindi | 'Bal Diwas' par Nibandh (165 Words)
बाल दिवस

'बाल दिवस' 14 नवम्बर को मनाया जाता है। यह भारत के प्रथम प्रधानमंत्री पं. जवाहरलाल नेहरू का जन्मदिन होता है। इसी को बाल दिवस के रूप में मनाते हैं। पं. नेहरू को बच्चों से बहुत प्यार था और बच्चे उन्हें चाचा नेहरू पुकारते थे।

पं. नेहरू अपने देश को आज़ाद कराना चाहते थे। उनमें देश-भक्ति कूट-कूट कर भरी थी। स्वतंत्रता-संग्राम में उन्हें अनेक यातनाएं सहनी पड़ी। कई बार उनको जेल भेजा गया। सन 1947 में भारत को स्वतंत्रता मिली। नेहरूजी को प्रधानमन्त्री चुना गया। उन्होंने देश की गरीबी को दूर करने का प्रयत्न किया। वह भारत में समाजवाद का स्वप्न देखते थे। वे अपना सारा समय देश की समस्याओं को सुलझाने में व्यतीत करते थे।

बाल दिवस बच्चों के लिए महत्वपूर्ण दिन होता है। इस दिन स्कूली बच्चे बहुत खुश दिखाई देते हैं। वे सज-धज कर विद्यालय जाते हैं। विद्यालयों में बच्चों के विशेष कार्यक्रम आयोजित किये जाते हैं। बच्चे चाचा नेहरू को प्रेम से स्मरण करते हैं। नृत्य, गान एवं नाटक आदि का आयोजन किया जाता है। बाल दिवस के अवसर पर केंद्र तथा राज्य सरकार बच्चों के भविष्य के लिए कई कार्यक्रमों की घोषणा करती है।
 

0 comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *